Zindagi Shayari

Wahi Chamakta Chaand, Wahi Neela Aasma
Phir Bhi Nazaare Badal Gaye
Wahi Khamosh Raatein, Wahi Jag-Magaatey Sitaare
Phir Bhi Wo Mehfil Guzar Gayi

Wahi Lehrathi Hawa, Bharasti Ye Bharish,
Phir Bhi Wo Lamhe Nahi Rahey
Wahi Guzarthi Zindagi, Wahi Na Kathm Hone Wale Raastey,
Shayad Ab Hum, Hum Nahi Rahey,
Hum, Hum Nahi Rahey…

– Lekha

शायरी नेटवर्क पेश करते हैं एक महान शायर जावेद अख़्तर साहब द्वारा लिखी ग़ज़ल इस ज़िन्दगी के नाम, कृपा अपने विचार और कमेंट जरूर साँझे कीजिये।
Shayari Network presents a great Ghazal written by a great Indian poet Javed Akhtar Sahab upon the life, please share your thoughts and comment.

Ghazal…

Bahana Dhundhte Rehte Hain Koi Rone Ka,

Humein Yeh Shauq Hai Kya Aasteen Bhigone Ka

Agar Palak Per Hai Moti To Ye Nhi Kaafi
Hunar Bhi Chahiye Alfaaz Mein Pirone Ka

Jo Fasal Khwab Ki Taiyaar Hai To Yeh Jaano
Ki Waqt Aa Gya Fir Dard Koi Bone Ka

Yeh Zindagi Bhi Ajab Karobaar Hai
Ki Mujhe Khushi Hai Paane Ki Koi Na Ranj Khone Ka

Hai Chaknachoor Magar Fir Bhi Muskurata Hai
Voh Chehra Jaise Ho Toote Huye Khiline Ka…

– Javed Akhtar


Hindi Script

बहाना ढूँढ़ते रहते हैं कोई रोने का
हमें ये शौक़ है क्या आस्तीन भिगोने का

अगर पलक पर है मोती तो ये नहीं काफ़ी
हुनर भी चाहिए अल्फ़ाज़ में पिरोने का

जो फ़सल ख्वाब की तैयार है तो ये जानो
की वक़्त आ गया फिर दर्द कोई बोने का

ये ज़िन्दगी भी अजब कारोबार है
की मुझे ख़ुशी है पाने की कोई न रंज खोने का

है चकनाचूर मगर फिर भी मुस्कुराता है
वो चेहरा जैसे हो टूटे हुए खिलौने का

– जावेद अख़्तर

क्या सफ़र है ये ज़िन्दगी का या कोई इमितिहान है मेरा,
चली जा रही हूँ, दिये जा रही हूँ।

ना मंज़िल का पता है, ना परिणाम का,
फिर भी जिए जा रही हूँ, उम्मीद किये जा रही हूँ।

कहाँ पहुँचूंगी इस राह में, क्या पाऊँगी इस इम्तिहान से,
इसी सोच में अब मैं नादानियां किये जा रही हूँ।

क्या सफ़र हैं ये ज़िन्दगी का या कोई इम्तिहान है मेरा,
चली जा रही हूँ, दिए जा रही हूँ।

– मोनिका

Sad Emotions

Zindagi Ne Liya Hai Aisa Imtehan Mera
Sda Sathi Raha Hai Gham-E-Dauran Mera

Din Raat Rehta Hai Dil Pareshan Mera
Us Pe Nahi Hai Haal Ayan Mera

Us Se Baatein To Bauht Kehni Hoti Hain
Us Ke Samne Sath Nahi Deti Zuban Mera

Jo Shakhs Mujhey Saari Duniya Se Aziz Tha
Vohi Loot Kar Le Gya Sara Jahan Mera

Aandhian Charon Simat Mandla Rehi Hain
Kahi Gira Na Dein Wo Ashyaan Mera…

– M. Asghar Mirpuri