Sad Sharab Shayari in Hindi

Gilash Par Gilash Bahut Toot Rahe Hain,
Khusi Ke Pyale Ghamon Se Bhar Rahe Hain,

Mashalon Ki Tarah Dil Jal Rahe Hain,
Jaise Zindagi Mein Badkismati Se Mil Rahe Hain…

2 Comments
  1. devashish Writes on 12 July, 2015

    nice

  2. pravin Writes on 25 April, 2015

    वो मुहब्बत भी उसकी थी वो नफरत भी
    उसकी थी,
    वो अपनाने और ठुकराने की अदा भी
    उसकी थी !
    मैं अपनी वफा का इन्साफ किस से
    मांगता ,
    वो शहर भी उसका था वो अदालत भी
    उसकी थी !

Write a Comment