Sad Shayari

Wahi Chamakta Chaand, Wahi Neela Aasma
Phir Bhi Nazaare Badal Gaye
Wahi Khamosh Raatein, Wahi Jag-Magaatey Sitaare
Phir Bhi Wo Mehfil Guzar Gayi

Wahi Lehrathi Hawa, Bharasti Ye Bharish,
Phir Bhi Wo Lamhe Nahi Rahey
Wahi Guzarthi Zindagi, Wahi Na Kathm Hone Wale Raastey,
Shayad Ab Hum, Hum Nahi Rahey,
Hum, Hum Nahi Rahey…

– Lekha

Chale Bhi Aao Dost Ke Eid Aane Waali Hai
Tum Na Aaye To Asghar Ki Jaan Jaane Waali Hai

Tere Milne Ki Aas Pe Jiye Ja Raha Hoon Yara
Dekhta Hoon Kismat Kya Ruang Dikhane Waali Hai

Yeh Haseen Mausam Kahi Beet Na Jaaye
Chale Bhi Aao Ke Yeh Rutt Badal Jaane Waali Hai

Muqadar Ne Hamesha Rulaya Kismat Ne Sda Staya
Na Jaane Ab Taqdeer Kya Aur Sitam Dhaane Waali Hai

Tera Mera Pyar Sda Ke Liye Amar Rahega Jaanam
Baaki Iss Qainaat Ki Har Cheez Mit Jane Waali Hai …

– M.Asghar Mirpuri


Mujhey Teri Na Tujhey Meri Khabar Jaye Gi
Eid Ab Ke Bhi Dabey Paon Guzar Jaye Gi

Idhar Tumaari Judai Mein Hum Udaas Hongey
Udhar Eid Khushion Se Tera Daman Bhar Jaye Gi

Teri Yaad Aayegi Khusboo Ke Jhonke Ki Tarah
Wo Kar Ke Mohatar Mere Baam-O-Dar Jaye Gi

Jab Baad-E-Saba Aaye Gi Mujh Se Tera Sandes Lene
Mere Ghar Ki Veerani Dekh Kar Wo Dar Jaye Gi

Jab Tu Asghar Ke Rang Mein Rang Jaye Gi
Phir Yeh Judai Khud Apni Maut Mar Jaye Gi …

– M.Asghar Mirpuri

Sad Shayari

Aaj Meri Jaan Chal Padi Hai Apne Safar Per
Meri Aankhon Mein Aansoo Dil Mein Yaadein Chhodkar

Kisi Waqt Is Jagah Wo Bethi Thi Mere Pass Mein
Aaj Bhi Ek Waqt Hai Jab Tanhai Hai Mere Sath Mein

Ab Zindgi Mein Bus Unka Hi Sahara Hai
Sadiyon Se Rakha Hai Khuda Ne Naam Intzaar-E-Alam Hamara Hai

Seene Dhadakta Hai Ye Dil
Is Per Naam Likha Tumara Hai

Khabar Chhapi Hai In Dino, “Ek Pagal Premi”,
Zara Gaur Se Dekho Wo Ishtehar Hamara Hai…

– Vishal Chandra Fulara

Dil Letter

बिछड गया …
बिछड गया कोई हमसे अपना

करीबी वक्त की मार में
कोई हो गया अंजान हमसे
किसमत की इस चाल में

टूट कर बिखर गये अरमान मेरे
इस कदर
फिर टूट गया मेरे इस दिल का भी सबर

बिछड गया कोई हमसे अपना
पहली दफह किसी को इतना चाह था मैनें
उसे फिर अपना खुदा माना था मैंने

वो मेरे ख्यालों में जीया करता था
मेरे हर साँस की एक वजह वो भी हुआ करता था

बिछड गया कोई हमसे अपना

उसे इज्हार कर हमने अपनी मुहब्बत का इहसास कराया था
खामौशी में उसने भी फिर प्यार जताया था

मैं उम्मीदों को जिंदा रख जीने लगा था
उसके हर दुख को अपना समझ पीने लगा था

बिछड गया कोई हमसे अपना

वो दुखी सा होकर हम्हें इंकार करता था
वजह अंजान थी क्योकि हर बार करता था

मैं उसे सच्ची मुहब्बत करने लगा
उसके हाँ के इतजार में जीने लगा

बिछड गया कोई हमसे अपना

सब कुछ अच्छा चल रहा था
उसे भी है अब प्यार एसा लग रहा था

फिर अचानक इक भवंडर आया
मेरी जीवन में तूफान ले आया

बिछड गया कोई हमसे अपना

उसके अतीत का इक पन्ना आज उसका आज बनकर आया
मेरे दिल में हलचल मची फिर उसने मुझे बहुत रूलाया

टूट गया मैं अपनी क़मुहब्बत को संजोता – संजोता इस कदर…
देख ना सका अपना बुरा भी हर डगर

बिछड गया कोई हमसे अपना

फिर उसकी खुशी के लिए फिका सा मैं भी हंस दिया
हर अरमान मैंने अपना जिंदा दफन फिर मैनें कर लिया

आज वो दूर है मुझसे ए सच है
मुझे प्यार आज भी है उस्से ए भी सच है

उस उपर वाले की मर्जी नें मुझे अलग कर दिया
वो अलग हुआ पर मुझे पत्थर दिल कर दिया

बिछड गया कोई हमसे अपना …

– Saurabh Saini