बे-नूर सी लगती है तेरे बैगर ये जिंदगी,
चिराग तो जलते हैं, मगर रोशनी नही होती