थक सा गया है मेरी चाहतों का वजूद
अब कोई अच्छा भी लगे तो मे इजहार नहीं करता.