Anmol Vachan in Hindi Free

Anmol Vachan in Hindi Free

चिंता इंसान को हर तरह से कमज़ोर कर देती है।

भोर से पहले अंधकार होता है।

सच की विजय हमेशा देर से ही होती है। – गीता

वक़्त जीवन और दिल के हर घाव को भर देता है।

इस दुनिया से एक दिन सब को जाना है, इसे कभी अपना स्थायी घर मत मानो।

ऐसे कर्म कभी मत करो की परमात्मा की दरगाह में जाकर पछताना पड़े।

ऐसी कोई भी कला नहीं जो अभ्यास से प्राप्त न हो सके।

धोखा एक विकल्प (Choice) होता है न की कोई गलती।

दबाव से अनुशासन नहीं बल्कि विरोध पैदा होता है।

कितनी भी महँगी से महँगी घड़ी पहन कर देख लो वक़्त कभी किसी का ग़ुलाम नहीं होता।

भीड़ में खड़े होना बड़ा आसान होता है, अकेले खड़ने के लिए बड़ा साहस चाहिए।

बच्चों पर इसीलिए तो नूर-सा बरसता है, क्योंकि बच्चे शरारतें करतें हैं साज़िशें नहीं।

बुद्धिमान व्यक्ति दूसरों की गलतियों से सीखता है।

वो ज्ञान किसी काम का नही जिसका उपयोग न किया जाये।

पहले वैसे ही खुद बन कर दिखाओ जैसी दुनिया से उम्मीद रखते हो।

ज़िन्दगी सबको एक ही सन्देश देती है की ये कभी रूकती नहीं।

जब थक जाओ तो आराम कर लो पर हार मत मानो।

ज़िन्दगी इतनी भी मुश्किल नहीं होती, मनुष्य इसमें खुद उलझ कर इसे मुश्किल बना देता है।

मनुष्य दिनों को याद नहीं बल्कि पलों को याद रखता है।

ज़िन्दगी से प्यार करो ज़िन्दगी तुम्हें वापिस प्यार करेगी।

मनुष्य का व्यक्तित्व उसके दिमाग पर भारी विचारों को व्यकत करता।

ऐसे कार्य को जरूर करना चाहिए, जिसे आप सोचते हो के नहीं कर सकते।

अगर तुम किसी से प्यार चाहते हो तो उसे बिना शर्त प्यार करो, एक न एक दिन वो जरूर प्यार लौटाएगा।

जहाँ प्यार है वहां ज़िन्दगी है।

एक व्यक्ति का दुर्भाग्य या सुभाग्य उसकी पत्नी से होता है।

जीव का जन्म प्यार से होता है, और प्यार के लिए ही होता है।

क्रोध करते समय व्यक्ति सबसे अधिक क्रूरता स्वयं पर ही करता है।

वास्तव में भविष्य होता ही नहीं। इसका हमें निर्माण करना है।

संसार में हर किसी को शंकाएं घेरे रहती हैं, इनसे निकल कर ही मनुष्य लक्ष्य प्राप्त करता है।

प्रेमपूर्वक बोलकर किया अतिथि का सत्कार सामग्री द्वारा किए सत्कार से बहुत बढ़कर होता है।

दुर्बलताएँ और क्रूरता ही अत्याचार को जन्म देती है।

अन्याय की बुनियाद पर स्थापित राज्य कभी नहीं टिकता। – सेनेका

जहान में हर किसी को दरारों में झांकने की आदत है, दरवाज़े खोल दो तो कोई पूछने भी नहीं आता।

Zindagi Sochne Se Nahi Chalti, Mehnat Se Chalti Hai.

Anmol Vachan in Hindi Anmol Vachan in Hindi Free

61 Comments
  1. amrendra kumar Writes on 15 September, 2016

    anmol vachan jeevan ke ke mukhya uddeshy ko batati h. ki aakhir duniya me etene log h par hamari kya zarurat pad gai jo ham v yaha par aa gaye.

  2. आप कब सही थे इसे कोई याद नहीं रखता।आप कब गलत थे ये कोई नहीं भूलता... Writes on 8 September, 2016

    ईश्वर “टूटी” हुई चीज़ों का इस्तेमाल कितनी
    ख़ूबसूरती से करता है ..,, जैसे ….
    बादल टूटने पर पानी की फुहार आती है ……
    मिट्टी टूटने पर खेत का रुप लेती है….
    फल के टूटने पर बीज अंकुरित हो जाता है …..
    और बीज टूटने पर एक नये पौधे की संरचना होती है
    ….
    इसीलिये जब आप ख़ुद को टूटा हुआ महसूस करे तो
    समझ लिजिये ईश्वर आपका इस्तेमाल किसी बड़ी
    उपयोगिता के लिये करना चाहता है ।
    इसीलिए सदैव प्रसन्न रहें और प्रसन्न

  3. sachin tamta Writes on 29 August, 2016

    जो लोग न तो अपनी
    गलतियों से सीखते हैं
    और न दूसरों की
    गलतियों से सीखते हैं…
    वैसे लोग बर्बाद हो
    जाते हैं.

  4. B R Pal Writes on 25 August, 2016

    1) dheer = dhiraj se kam lena chahiye
    2) veer = jarurat mai veerta dikhani chahiye
    3)gamveer = hamesha mithi baani bolni chahiye
    ye teen shabad lok aur perlok dono sawaar sakte hai

  5. Dhananjay chaurasiya Writes on 25 July, 2016

    Zindagi usi ko aajmati hai jo her mod per chalna janta hai.

  6. Dhananjay Writes on 25 July, 2016

    जिन्दगी की उलझनेँ हमारी शरारतोँ को कम कर देतीँ हैँ।

  7. Ramlakhan kumar singh Writes on 17 July, 2016

    Anmol vachan se insaan ko sidha rasta dikha sakta hai I love my anmol vachan

  8. Shubham sunny parmar Writes on 11 July, 2016

    बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड़ लेना..
    कतरे कतरे से वफ़ा ना मिले तो बेशक मुझे छोड़ देना।

  9. Nitish kumar kaushik Writes on 10 July, 2016

    Jo Aapse Jalte Hai Unse Kabhi Ghabrana Mat kyoki Yahi To Ve Log Hote Hai jo Ye Samajhate Hai Ki Aap Unse Behter ho…..

  10. NEERAJ YADAV Writes on 28 June, 2016

    jindgi kabhi udas mat hona kyoki udasi se umeed k sare darwaje band ho jati hai.play boy n n yadav

  11. My name is "Aman Behgal" Writes on 23 June, 2016

    Without friends and funny chutkule life is not going on ¥

  12. Devid kurrey Writes on 21 June, 2016

    Anmol vaachan bahut hi aacha hai ishse man ko santi milti hai

  13. vimlesh gupta Writes on 10 June, 2016

    Anmol vachan logo ki vichar badal deta hai thnx for anmol vachan

  14. vijay kumar barnala Writes on 26 May, 2016

    zahreele juban zahreele snack se bhi zyada zahreele hoti hai

  15. sadanand yadav ramna garhwa jharkhand Writes on 25 May, 2016

    जो लोग न तो अपनी
    गलतियों से सीखते हैं
    और न दूसरों की
    गलतियों से सीखते हैं…
    वैसे लोग बर्बाद हो
    जाते हैं.

  16. preetam pyare bgp Writes on 21 May, 2016

    nice heart touching every line. l will flow it.
    jindgi ke liye- apko khus rahna hi apka bura chahne wallo ke liye sabse bari saja h. please always keep in your heart&mind.

  17. N.R.MANDAVI 296 C A F(D W A) Writes on 20 May, 2016

    अग्नि उसी को जलाती जो उसके पास जाती है मगर क्रोधाग्नि सारे कुटुम को जला देती है //

  18. N.R.MANDAVI Writes on 20 May, 2016

    ठोकर लगे और दर्द हो तभी मैं सीख पाता हूँ //

  19. aman dubey Writes on 16 May, 2016

    mujhe ye baate bhuat achi lagti hai mai kosis karuga ki mai is ke kathano par chalu thank yu

  20. Shekhar Writes on 4 May, 2016

    Jese Nadi k dhar pahaar ko ret bna deti hai wese hi insan k continue mehnat usko manzil tak pahucha deti hai. SHEKHAR

  21. RAKESH KUMAR CHAUHAN Writes on 30 April, 2016

    kya bat hai sir ji karono ki bat boilte hain aap log

  22. Anupam prakash verma Writes on 24 April, 2016

    It is outstanding and realistic thought of everyone. I wants keep It as it is.

  23. Shagufee Writes on 20 April, 2016

    I Always follow

  24. k.p meena khohara chouhan Writes on 9 April, 2016

    Ye bate bahut achhi h or dil ko chune wali bhi h.

  25. kamleshwar Bhagat Writes on 28 March, 2016

    suvichar hi Jindgi ko
    sawarne ka
    inam deti h

  26. Amit Tiwari Writes on 19 March, 2016

    insaan ka sabse bada dusman uska ahankar hai zindgi ke do pahlu hote hai sukh or dukh isliye bure samay me gabrana nahi chahiye

  27. gayatri tiwari Writes on 13 March, 2016

    Buland hosle Wale har manjil ko paa skte h .raste kitne hi katin kyuna ho har kante ko phol banaa skte h…………….Jay hind

  28. manoj kumar sahu Writes on 10 March, 2016

    Iski mahanta k bare main kaun janta hai sb to apni jindagi main aise hi jite hain jaise karna hai bolke karte hain.mere hisb se sbko anmol vachan se sikhya leni chahia.

  29. sameer saini Writes on 8 March, 2016

    Yai jindge dobara detai hai awsome

  30. manish kumar. Writes on 7 March, 2016

    bahut achha laga padh kar. jay baba bajrangbali ki.mg

  31. Johny Writes on 3 March, 2016

    Jivan mein dukh bahut ate hai lekin khushi bahut kam atti hai

    or pyar main khai chot dar hi dar de jati hai

  32. Johny Writes on 3 March, 2016

    Mujhe Bahut achcha laga vicharo ko par kar

  33. aslam ali Writes on 2 March, 2016

    Comment
    sabhi ko sab kuch nahi milta
    nadi ki har lehar ko sahil nahi milta…..
    Aapki baato me bahut sacchai hai. Thanks share it.

  34. Hari shankar Writes on 21 February, 2016

    man me Jigyasa paid a hot I hai.

  35. Hari shankar Writes on 21 February, 2016

    bilkul sahi hai

  36. lokesh verma Writes on 20 February, 2016

    mujhe yeh bhut acche lge h or mere under aatamvisvas jag gya h

  37. amardeep sahani Writes on 18 February, 2016

    mujhe bhut acha lagata hai aap logo ko kaisa lagata hai,

  38. Praveen kt Writes on 11 February, 2016

    Zindagi mein bahut kuch baatein aisi h jinhe hum nahi jaante par ye hume btata hai.

  39. Praveen kt Writes on 11 February, 2016

    issko padne se mujhe zindgi ki bahut kuch galat fehmi door hoti hai or ye meri aadat ban gyi

  40. Praveen kt Writes on 11 February, 2016

    iss vachan se mujhe sahi zindagi jeene k tareeke mujhe malum huy jo mein jaanta nhi tha so thnxs

  41. Ajay suryawanshi Writes on 9 February, 2016

    Ye subh vicharo ne mere dil or dimag me gehra prabhab dala hai jisse mere sochne ka najariya hi badal gaya hai.thanks to good quotes.

  42. Niraj Kumar Yadav Writes on 5 February, 2016

    Ijjatt pane ke liye sabko ijjatt karna parta hai

  43. Aashish valmiki Writes on 28 January, 2016

    sach m ye bate bahot achhi h mujhe bahot kuchh sikh mili h in anmol vachan ko padke thanx a load

  44. Vinod Rathore Writes on 26 January, 2016

    “!” kahte he- ” 1 machli pure talab ko ganda karti he , Lekin 1 mombatti 100 mombattiyo ko jala deti hi”!”

  45. vijender kumar (pundri) Writes on 24 January, 2016

    Comment.. very very nice… kaash sabhi in anmol vachan ko samjhe or amal b kare….

    ईश्वर “टूटी” हुई चीज़ों का इस्तेमाल कितनी
    ख़ूबसूरती से करता है ..,, जैसे ….
    बादल टूटने पर पानी की फुहार आती है ……
    मिट्टी टूटने पर खेत का रुप लेती है….
    फल के टूटने पर बीज अंकुरित हो जाता है …..
    और बीज टूटने पर एक नये पौधे की संरचना होती है
    ….
    इसीलिये जब आप ख़ुद को टूटा हुआ महसूस करे तो
    समझ लिजिये ईश्वर आपका इस्तेमाल किसी बड़ी
    उपयोगिता के लिये करना चाहता है ।
    इसीलिए सदैव प्रसन्न रहें और प्रसन्न रखे।

  46. Virendra Writes on 21 January, 2016

    Yes
    Correct

  47. hemant kumar Writes on 20 January, 2016

    Kujh jindgi me galtiyo se gyan milta h

  48. Durmendra Writes on 10 January, 2016

    anmol vachan padhkar dimag ko shanti milti hai or lagta jin galtiyon ko jaanbujh kar ya dhoke se karte hai unhe cool mind or vinarm thoughts se rok sakte hai

  49. Rajnish poonia Writes on 10 January, 2016

    Very nice anmol vachan.
    Bahut aach lage.

  50. jaydev maheshwari Writes on 7 January, 2016

    सफलता एक अच्छी टीचर नहीं है,
    असफलता आपको विनम्र बनाती है.

  51. mustakim Writes on 4 January, 2016

    ye mat socho aap padte kitne ghante ho
    ye socho aapko gyaan kitna prapt hota h
    -mustakim malik
    agar zindagi me kuch karna h
    to apni ichchaao ko kam kr do.-mustakim malik

  52. Rahul nirala Writes on 22 December, 2015

    मनुष्य की सबसे बड़ी शिक्षक उसकी गलतियां होती हैं।

  53. hemant dwivedi Writes on 12 December, 2015

    Insan ka aadat hai dararo se ghakna darwaja khol do to koi puchhane bhi nhi aata!

  54. hemant dwiedi Writes on 12 December, 2015

    Shi bole ho aap dwarika ji

  55. indra jeet Writes on 1 December, 2015

    anmol bhachan mujhhe bahot achha lagata hai

    yese hi anmol vachan aata rahe

  56. Dwarika S Dumri Writes on 23 November, 2015

    समझदार निंदा सुन लेगा पर करेगा नही |

  57. KARANVEER SINGH Writes on 12 November, 2015

    PAHAR SE GIRA HUA INSAAN PHIR SE UTH SAKTA MAGAR NAZAR SE GIRA HUA INSAAN PHIR KABHI NAHI UTHTA

  58. rakesh kumar yadav Writes on 7 November, 2015

    Inhe padhne se manusye apni ulghi zindgi se bahar nikal sakta h,apni zindgi ko safal bna sakta h aur v bahut kuch achha kar sakta h ek bat aur ki anmol padhne se zindgi me aage badhne ka hausla milta h

  59. Ravi Writes on 31 October, 2015

    ऋध्दा ज्ञान देती है, नमर्ता मान देती है , येग्यता स्थान देती है जब तीनो मिल जाऐँ तो सम्मान देती हैँ

  60. Titu verma Writes on 30 October, 2015

    Very nice ye (ANMOL VICHAR) Bahut aache lage.

  61. Dhruv kumar Writes on 28 October, 2015

    yai baate sach mouh anmol hai.
    inhe padkar man mai ek urja ka sanchar hota hai.
    yai baate life long humare liye upyogi sidh hogi.

Write a Comment